प्राणी संग्रहालय की सैर निबंध हिंदी, Essay On Zoo in Hindi

Essay on zoo in Hindi, प्राणी संग्रहालय की सैर पर निबंध हिंदी: नमस्कार दोस्तों, आज हम आपके लिए लेके आये है प्राणी संग्रहालय की सैर पर निबंध हिंदी लेख। यह प्राणी संग्रहालय की सैर पर निबंध हिंदी, essay on zoo in Hindi लेख में आपको इस विषय की पूरी जानकारी देने का मेरा प्रयास रहेगा।

हमारा एकमात्र उद्देश्य हमारे हिंदी भाई बहनो को एक ही लेख में सारी जानकारी प्रदान करना है, ताकि आपका सारा समय बर्बाद न हो। तो आइए देखते हैं प्राणी संग्रहालय की सैर पर निबंध हिंदी, essay on zoo in Hindi लेख।

प्राणी संग्रहालय की सैर निबंध हिंदी, Essay On Zoo in Hindi

हमें स्कुल के लिए दिवाली के लगातार ५-६ दिन छुट्टियां मिली थी। मेरे सभी दोस्त घर बैठे बोर हो रहे थे। सबने सोचा चलो कहीं घूमने चलते हैं। काफी देर तक सोचने के बाद मैंने चिड़ियाघर जाने का फैसला किया।

परिचय

रविवार को चिड़ियाघर जाने का फैसला किया। रविवार बहुत अच्छा दिन था । मेरे दोस्तों और मैंने चिड़ियाघर का दौरा किया। जैसे ही हम मेन गेट के पास पहुंचे, हमने देखा कि काफी भीड़ है।

चिड़ियाघर के बाहर का एक दृश्य

रविवार होने के कारण काफी भीड़ थी। सब लाइन में खड़े थे। कुछ लोग प्रवेश टिकट खरीद रहे थे, कुछ बातें कर रहे थे और कुछ एक बड़े पेड़ के नीचे आराम कर रहे थे।

चिड़ियाघर का सफर

हमने चिड़ियाघर में प्रवेश किया और एक खूबसूरत तालाब पर पहुँचे जहाँ कुछ जलपक्षी जैसे बत्तख और हंस तैर रहे थे।

सफेद बत्तखों को तैरते देखना एक आकर्षक दृश्य था। अंदर उड़ते पंछी रखे गए थे। इनमें गौरैया, चील और तोते से लेकर कबूतर तक शामिल हैं। पक्षियों ने गाया। हमने बहुत मजे किये।

फिर हमने शेर और चीते, बाघ और शेरनी भी देखे। जैसे ही हम सुरक्षा बाड़ के पास पहुंचे, एक बाघ हमारी ओर दौड़ा और हम डर गए। शेर और बाघ को देखने के बाद हम एक बगीचे में पहुंचे जहां हिरण और खरगोश घूमते थे। ये जानवर बहुत खूबसूरत थे। बगीचे के एक कोने में एक बड़ा सा पेड़ था जिस पर बंदर कूद जाया करते थे। उन्हें बहुत मज़ा आ रहा था।

कुछ लोगों ने उन्हें भोजन, कुकीज़ की पेशकश की और वह उन्हें लेने के लिए तुरंत नीचे चले गए। जिन बच्चों और बड़ों ने जानवरों का मज़ाक उड़ाने की कोशिश की, उन्हें दूसरों ने कड़ी फटकार लगाई।

हम फिर एक्वेरियम सेक्शन में गए, जो हमारा पसंदीदा सेक्शन था। वहां बड़ी संख्या में जलीय जंतु रखे जाते थे। मछलियों के कई प्रकार और रंग थे। उन्हें पानी में स्वतंत्र रूप से तैरते देखना बहुत अच्छा लगा। और भी बहुत से जलीय जंतु थे।

एक्वेरियम के बगल में एक काला भालू का पिंजरा था जिसमें एक बड़ा भालू रहता था। भालू ने तरह-तरह के करतब दिखाए जिससे दर्शक हंस पड़े। कुछ लोगों ने उसे केला, सेब जैसे खाने में दिया जिसे उसने तुरंत खा लिया।

चिड़ियाघर इतना विशाल है कि सभी भागों को देखकर उनका वर्णन करना बहुत कठिन है। चिड़ियाघर के व्यापक दौरे के बाद, हमने चिड़ियाघर के एक खूबसूरत बगीचे में कुछ देर आराम किया। फूलों की महक बहुत सुकून दे रही थी। इसके बाद हमने कुछ स्नैक्स, कुकीज और ड्रिंक्स पिया। खाने के बाद मुझे बहुत अच्छा लगा।

निष्कर्ष

सूरज ढलते ही हमने अन्य लोगों के साथ चिड़ियाघर छोड़ दिया। जैसे ही सूरज डूबा, हम बस में चढ़े, चिड़ियाघर देख रहे थे। लुप्त होती सूरज की किरणें चिड़ियाघर की सुंदरता और भव्यता में चार चांद लगा देती हैं। चिड़ियाघर में यह रोमांचक अनुभव मुझे हमेशा याद रहेगा।

दुनिया देखने के लिए एक बड़ी जगह है। इसमें इतने सारे जीव हैं कि उनमें से हर एक को देखना असंभव है। खासकर इंसानों के लिए, जो जानवरों से बेहद प्यार करते हैं। चिड़ियाघरों को उन्हीं कारणों से बनाया गया था ताकि मनुष्य जानवरों के साथ बेहतर ढंग से बातचीत कर सकें।

आज आपने क्या पढ़ा

तो दोस्तों, उपरोक्त लेख में हमने प्राणी संग्रहालय की सैर पर निबंध हिंदी, essay on zoo in Hindi की जानकारी देखी। मुझे लगता है, मैंने आपको उपरोक्त लेख में प्राणी संग्रहालय की सैर पर निबंध हिंदी के बारे में सारी जानकारी दी है।

आपको प्राणी संग्रहालय की सैर पर निबंध हिंदी यह लेख कैसा लगा कमेंट बॉक्स में हमें भी बताएं, ताकि हम अपने लेख में अगर कुछ गलती होती है तो उसको जल्द से जल्द ठीक करने का प्रयास कर सकें।

जाते जाते दोस्तों अगर आपको इस लेख से प्राणी संग्रहालय की सैर पर निबंध हिंदी, essay on zoo in Hindi इस विषय पर पूरी जानकारी मिली है और आपको यह लेख पसंद आया है तो आप इसे फेसबुक, ट्विटर और व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें।

Leave a Comment

error: Content is protected !!