मकर संक्रांति पर निबंध हिंदी, Essay On Makar Sankranti in Hindi

Essay on Makar Sankranti in Hindi, मकर संक्रांति पर निबंध हिंदी: नमस्कार दोस्तों, आज हम आपके लिए लेके आये है मकर संक्रांति पर निबंध हिंदी लेख। यह मकर संक्रांति पर निबंध हिंदी, essay on Makar Sankranti in Hindi लेख में आपको इस विषय की पूरी जानकारी देने का मेरा प्रयास रहेगा।

हमारा एकमात्र उद्देश्य हमारे हिंदी भाई बहनो को एक ही लेख में सारी जानकारी प्रदान करना है, ताकि आपका सारा समय बर्बाद न हो। तो आइए देखते हैं मकर संक्रांति पर निबंध हिंदी, essay on Makar Sankranti in Hindi लेख।

मकर संक्रांति पर निबंध हिंदी, Essay On Makar Sankranti in Hindi

मकर संक्रांति भारत के कई हिस्सों में मनाया जाने वाला एक लोकप्रिय त्योहार है। यह कटाई का समय है, और पृथ्वी को फलने-फूलने के लिए परमेश्वर को धन्यवाद दें ऐसा भगवान के पास माँगा जाता है। यह फसल उत्सव आमतौर पर सौर चक्र के आधार पर हर साल १४ या १५ जनवरी को मनाया जाता है।

परिचय

मकर संक्रांत एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है। यह अवकाश भारत के विभिन्न राज्यों में उनकी अपनी धार्मिक मान्यताओं, रीति-रिवाजों और संस्कृति के आधार पर मनाया जाता है।

यह मकर संक्रांति पर्व हर साल १४ या १५ जनवरी को मनाया जाता है। इस त्योहार से शादी, पूजा और अनुष्ठान जैसे शुभ कार्य शुरू हो जाते हैं। जब किसान फसल काटने आते हैं तो इस त्योहार को खुशी और समृद्धि के त्योहार के रूप में मनाया जाता है।

मकर संक्रांति क्या है

सूर्य के एक राशि से दूसरी राशि में जाने को संक्रांति कहते हैं। एक संक्रांति से दूसरी संक्रांति में परिवर्तन को सौर मास कहते हैं। कुल मिलाकर १२ सौर संक्रांतियां होती हैं, लेकिन इनमें से प्रमुख हैं मेष, कर्क, तुला और मकर।

मकर संक्रात पर्व की खास बात यह है कि यह पर्व हर साल १४ जनवरी को मनाया जाता है। लेकिन कभी-कभी यह एक दिन पहले या बाद में यानी १४ जनवरी या १५ जनवरी को मनाया जाता है, लेकिन ऐसा बहुत कम होता है।

इस प्रकार मकर संक्रांति का सीधा संबंध पृथ्वी और सूर्य की स्थिति से है।जब भी सूर्य मकर राशि पर पड़ता है, दिन १४ जनवरी को पड़ता है और लोग मकर संक्रांति मनाते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस दिन सूर्य धनस्थान से निकलकर मकर राशि में प्रवेश करता है और उत्तरायण की शुरुआत होती है।

मकर संक्रांति का महत्व

संक्रान्ति के समय सूर्य उत्तरी ध्रुव पर होता है अर्थात पृथ्वी का उत्तरी गोलार्द्ध सूर्य की ओर घूमता है।मकर संक्रांति के दिन से ही विवाह, सगाई और शुभ कार्यों की शुरुआत हो जाती है।

दान के अलावा इस पवित्र अनुष्ठान को लेकर यह भी मान्यता है कि आज के दिन सूर्य देव अपने पुत्र शनि से मिलने आपके घर आते हैं। मकर राशि के स्वामी शनि होने के कारण इस दिन को मकर संक्रांत कहा जाता है।

इसके अलावा इस पर्व को हिंदू धर्म में विशेष महत्व दिया जाता है। वेदों और पुराणों में मकर संक्रांति का जिक्र है। इन दिनों का बहुत महत्व है। माना जाता है कि मकर संक्रांति के दिन गंगा में स्नान करने वालों को पुण्य की प्राप्ति होती है।

प्रयागराज में पवित्र गंगा, यमुना और सरस्वती के संगम पर हर साल हजारों श्रद्धालु इस दिन स्नान करते हैं। कई भक्त यहां आकर भक्ति भाव से स्नान कर मन्नत मांगते हैं। अभी तो ऐसा लग रहा है कि एक महीने से यहीं है।

भारत में मकर संक्रांति के इस पावन पर्व को हर जगह अलग-अलग नामों से जाना जाता है। दक्षिण भारत में पोंगल के नाम से जाना जाता है। इसे आंध्र प्रदेश, केरल और कर्नाटक में संक्रांति कहा जाता है। गुजरात और राजस्थान में इसे उत्तरायण कहते हैं।

मकर संक्रांति को हरियाणा और पंजाब में माघी कहा जाता है। इस अवधि के दौरान नई फसलें उगाई जाती हैं। और पंजाबी इस त्यौहार को लोहरी के रूप में मनाते हैं।

असम में इस त्योहार को खुशी और आनंद से भरे बिहू के रूप में मनाया जाता है। इस प्रकार, इस पवित्र त्योहार को मनाने का नाम और तरीका एक प्रांत से दूसरे प्रांत में भिन्न होता है।

मकर संक्रांति कैसे मनाते है

त्योहार का प्रारूप एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में भिन्न होता है, लेकिन त्योहार की मुख्य विशेषता दाल और चावल दलिया का भोजन है। इस दिन खिचड़ी और घी अवश्य खाना चाहिए।

मकर संक्रांति के दिन सभी लोग सुबह जल्दी उठकर स्नान करते हैं। परिवार में सभी लोग सूर्य देव की पूजा करते हैं। मकर संक्रांति के दिन तिल के लड्डू बनाए जाते हैं. इस मौके पर सुहागिन महिलाएं एक-दूसरे को साड़ी और गिफ्ट देती हैं। ऐसा माना जाता है कि इससे पति की उम्र बढ़ती है।

मकर संक्रांति लोगों को जोड़ने वाला पर्व है, इसलिए मकर संक्रांति को आनंद, सादगी और एकता का प्रतीक माना जाता है।

मकर संक्रांति कब मनाई जाती है

मकर संक्रांति हर साल १४ और १५ जनवरी को मनाई जाती है। हिंदू पंचांग के अनुसार जब भी सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है, वह दिन १४ जनवरी होता है और लोग मकर संक्रात मनाते हैं। मकर शंकर में यह पर्व सूर्य की स्थिति के अनुसार मनाया जाता है।

कभी यह १४ जनवरी को मनाया जाता है तो कभी १५ जनवरी को चंद्रमा की स्थिति में मामूली बदलाव के कारण।

मकर संक्रांति से जुड़ी धार्मिक और पौराणिक मान्यताएं

मकर संक्रांति के पर्व से जुड़ी कई धार्मिक और पौराणिक कथाएं हैं. कहा जाता है कि गंगा नदी मकर संक्रांति के पावन पर्व पर धरती पर आई थी।

आप मकर संक्रांति कैसे मना सकते है

मकर संक्रांति भारत के विभिन्न राज्यों में अपनी-अपनी संस्कृति और धार्मिक रीति-रिवाजों के साथ मनाई जाती है।

इस दिन फूल, तिल, फल आदि का भोग लगाया जाता है। यह दिन दान-पुण्य के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन पवित्र तीर्थ यात्रा और नदियों में स्नान का भी विशेष महत्व है। इस दिन सूर्य देव की पूजा की जाती है।

इस दिन कुछ स्थानों पर बड़े पैमाने पर पतंग मेले का आयोजन किया जाता है। इस दिन लोग तिल, लड्डू और अन्य मिठाईया बनाई जाती हैं।

मकर संक्रांति का महत्व

खुशी और समृद्धि के इस पावन पर्व में गरीबों और जरूरतमंदों को दान देने का विशेष महत्व है।

इस दिन विवाहित महिलाएं अन्य विवाहित महिलाओं को दूध, वस्त्र, नमक और अन्य चीजें दान करती हैं।

इस दिन पतंगबाजी से कई धार्मिक कथाएं भी जुड़ी हुई हैं। ऐसा माना जाता है कि भगवान राम ने इस दिन पतंग उड़ाना शुरू किया था और तब से यह परंपरा जारी है।

इस मौके पर गुजरात, राजस्थान सहित कई जगहों पर पतंग मेले का आयोजन किया जाता है। जिसमें काफी संख्या में लोग शामिल होते हैं।

मकर संक्रांति भारत के विभिन्न राज्यों में मनाई जाती है।

भारत के अलग-अलग हिस्सों में मकर संक्रांति को अलग-अलग तरह से मनाया जाता है।

इस दिन उत्तर प्रदेश और पश्चिम बिहार के लोग पवित्र नदियों में स्नान, दान देने को विशेष महत्व देते हैं।

तमिलनाडु में इस पर्व को पोंगल पर्व के रूप में मनाया जाता है, यह पर्व 4 दिनों तक मनाया जाता है।
मकर संक्रांति से एक दिन पहले पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश राज्यों में लोहड़ी के रूप में मनाया जाता है।

दक्षिण भारत में, इस त्योहार के दौरान फसलों की कटाई की जाती है। किसान इस त्योहार को हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं।

इसलिए, इस त्योहार को मनाने का तरीका एक राज्य से दूसरे राज्य में भिन्न होता है, लेकिन उन सभी की मान्यताएं और अर्थ समान हैं।

मकर संक्रांति का संदेश

मकर संक्रांति का पर्व हम सभी को जोड़ता है। यह पर्व सुख-समृद्धि का प्रतीक माना जाता है। हम सभी को इस पर्व के महत्व को समझना चाहिए।

निष्कर्ष

त्योहार शांति, खुशी, परिष्कार और एकता के प्रतीक हैं। इसलिए, मकर संक्रांति भारत में मनाए जाने वाले अन्य हिंदू त्योहारों से अलग नहीं है। मकर संक्रांति के प्रमुख व्यंजनों में से एक है पोंगल। यह डिश बहुत सारी दाल, चावल और घी से तैयार की जाती है। इसके अलावा तिल, भुने हुए चने, गुड़, मूंगफली और सूखा नारियल मिलाकर इस पर्व की महत्ता पर जोर दिया जाता है।

भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है, और हम जिस क्षेत्र से हैं, उसके आधार पर हमारे पास प्रत्येक त्योहार को मनाने के अलग-अलग तरीके हैं। त्योहार मनाने का अंतिम उद्देश्य बेहतर भविष्य, समृद्धि, अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और शांतिपूर्ण जीवन के लिए प्रार्थना करना है।

आज आपने क्या पढ़ा

तो दोस्तों, उपरोक्त लेख में हमने मकर संक्रांति पर निबंध हिंदी, essay on Makar Sankranti in Hindi की जानकारी देखी। मुझे लगता है, मैंने आपको उपरोक्त लेख में मकर संक्रांति पर निबंध हिंदी के बारे में सारी जानकारी दी है।

आपको मकर संक्रांति पर निबंध हिंदी यह लेख कैसा लगा कमेंट बॉक्स में हमें भी बताएं, ताकि हम अपने लेख में अगर कुछ गलती होती है तो उसको जल्द से जल्द ठीक करने का प्रयास कर सकें।

जाते जाते दोस्तों अगर आपको इस लेख से मकर संक्रांति पर निबंध हिंदी, essay on Makar Sankranti in Hindi इस विषय पर पूरी जानकारी मिली है और आपको यह लेख पसंद आया है तो आप इसे फेसबुक, ट्विटर और व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें।

Leave a Comment

error: Content is protected !!