अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध हिंदी, Essay On International Yoga Day in Hindi

Essay on international yoga day in Hindi, अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध हिंदी: नमस्कार दोस्तों, आज हम आपके लिए लेके आये है अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध हिंदी लेख। यह अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध हिंदी, essay on international yoga day in Hindi लेख में आपको इस विषय की पूरी जानकारी देने का मेरा प्रयास रहेगा।

हमारा एकमात्र उद्देश्य हमारे हिंदी भाई बहनो को एक ही लेख में सारी जानकारी प्रदान करना है, ताकि आपका सारा समय बर्बाद न हो। तो आइए देखते हैं अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध हिंदी, essay on international yoga day in Hindi लेख।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध हिंदी, Essay On International Yoga Day in Hindi

योग शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक व्यायाम प्राप्त करने का एक प्राचीन तरीका है। मुख्य रूप से भारत में उत्पन्न, ‘योग’ शब्द संस्कृत से लिया गया है, जिसका अर्थ है एकजुट होना। यह मिलन चेतना के साथ शरीर के अंतिम मिलन को दर्शाता है और इस प्रकार पूर्ण शांति प्राप्त करता है। योग हमारे दैनिक जीवन का एक अहम हिस्सा बन गया है।

परिचय

योग को हमारे देश में प्राचीन काल से ही स्वीकार किया जाता रहा है। लोगों का मानना ​​है कि महादेव शिव केंद्रीय योगी या आदियोगी और मुख्य गुरु हैं।

कई साल पहले, हिमालय में झील के तट पर, अयोगी ने सात संतों को अपना अंतर्ज्ञान प्रदान किया, क्योंकि एक व्यक्ति को अपने सभी अंतर्ज्ञान और ज्ञान प्रदान करना मुश्किल था, और उनका इरादा था कि सभी महान संतों को उनकी अंतर्दृष्टि प्राप्त हो।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर योग को बढ़ावा क्यों दिया जाता है

योग चिकित्सा एक विज्ञान है, जीवन जीने का एक व्यावहारिक तरीका है, जीने की एक कला है। योग सिर्फ कुछ आसन करना नहीं है, बल्कि दैनिक जीवन की अनिश्चितताओं से बचने के लिए ध्यानपूर्ण जीवन जीना है।

ध्यान और प्राणायाम से हमारे शरीर में हार्मोन रिलीज होते हैं जो हमें खुश रखते हैं। भगवान श्रीकृष्ण ने गीता में भी कहा है कि हम जो भी करें उसे पूरी ईमानदारी, आदर, दृढ़ निश्चय, परिश्रम, तपस्या और संतोष के साथ करें और उसमें पूर्ण सफलता प्राप्त करें।

अपने काम में अपनी क्षमता, अपनी सोच और ईमानदारी को बढ़ाएं। किसी कार्य की सिद्धि या सिद्धि भी योग है। इसलिए अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर दुनिया भर के लोग योग को बढ़ावा देते हैं।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का इतिहास और उत्सव

सितंबर २०१४ में, भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने का प्रस्ताव रखा। इसे विभिन्न योग विशेषज्ञों और अन्य विश्व नेताओं द्वारा अपनाया गया था। दिसंबर २०१४ में, संयुक्त राष्ट्र ने २१ जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में घोषित किया।

इस दिन लोग विश्व योग दिवस की सराहना करते हैं। प्रधानमंत्री ने दिल्ली में राजपथ पर योग किया। इस दिन बहुत से लोग बड़ी संख्या में इकट्ठा होते हैं।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत कब हुई

विश्व योग दिवस २१ जून २०१५ को दुनिया भर में शुरू हुआ।

सितंबर २०१४ में, भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’ के अवसर पर संयुक्त राष्ट्र महासभा को निर्देश दिए।

इसके बाद, भारत द्वारा प्रस्तावित मसौदा प्रस्ताव को १७७ सदस्य राज्यों द्वारा अनुमोदित किया गया था। उसके बाद हर साल २१ जून को पूरी दुनिया में लोग इस दिन को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने लगे।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का महत्व

योग की कल्पना प्राचीन काल में की गई थी।

योग शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य प्रदान करता है। जहां पहले सिर्फ आयुर्वेदिक योगासनों को ही महत्व दिया जाता था, वहीं आज योगासन रोगों को दूर करने में भी सफल हैं।

नकारात्मक व्यवहार पैटर्न को योग के माध्यम से नियंत्रित किया जा सकता है। योग की विशेषता यह है कि यह मन, पूरे शरीर और आत्मा को नियंत्रित करने में मदद करता है। योग एक ऐसी चिकित्सा है जो तनाव और चिंता को दूर करती है। आज योग एक अभिन्न अंग और जीवन शैली बन गया है।

योग के महत्व को सभी को समझना होगा। योग आंतरिक और बाहरी गुण लाता है जो आज के युग में बहुत महत्वपूर्ण हैं। योग नकारात्मक विचारों को दूर करता है। यह तनाव और चिंता को नियंत्रित करने में मदद करता है और आपको खुश रखता है। योग शरीर में होने वाली बीमारियों को भी दूर करता है।

योग के कुछ महत्वपूर्ण फायदे

  • शारीरिक, मानसिक और अन्य लाभों के लिए योग का निरंतर प्रयोग किया जाता है।
  • योग मानव जाति के लिए मानसिक और बौद्धिक रूप से लाभकारी सिद्ध हुआ है।
  • योग का उद्देश्य शरीर के सभी अंगों को सुचारू रूप से कार्य करना है।
  • योग रोग से लड़ने की क्षमता पैदा करता है।
  • युवावस्था में भी आप जवां रह सकते हैं, त्वचा में निखार आता है और शरीर स्वस्थ रहता है।
  • एक दृष्टि से देखा जाए तो योग शरीर की मांसपेशियों को मजबूत करता है, दुबले-पतले व्यक्ति को मजबूत बनाता है।
  • नियमित योग करने से शरीर की चर्बी कम होती है।
  • नियमित योगाभ्यास से मांसपेशियां बेहतर तरीके से काम करती हैं।

प्राणायाम के लाभ

प्राणायाम का अर्थ है प्राणायाम के माध्यम से श्वास की लय को नियंत्रित करने के लिए योग का अभ्यास करना। यह श्वसन संक्रमण में असाधारण रूप से लाभकारी है। प्राणायाम दमा, संवेदनशीलता, साइनोसाइटिस, अंतःस्रावी रोग, सर्दी आदि रोगों में उपयोगी है। इसके अलावा, वे ऑक्सीजन प्राप्त करने के लिए फेफड़ों की क्षमता में वृद्धि करते हैं, जिसका पूरे जीव पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

ध्यान के लाभ

ध्यान भी योग का एक अहम हिस्सा है। आज की डाउन-टू-अर्थ संस्कृति में काम के तनाव, रिश्तों में संदेह के कारण तनाव दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है। ऐसी स्थिति में ध्यान से बेहतर कुछ भी नहीं है, ध्यान मानसिक तनाव को दूर करता है और गुण का विस्तार करता है, शांत करता है।

रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है। या कम कोलेस्ट्रॉल। मधुमेह रोगियों के लिए योग बहुत फायदेमंद होता है।

कुछ शोधों में पाया गया है कि कुछ योगाभ्यासों और ध्यान ने जोड़ों के दर्द, कमर दर्द आदि जैसी बीमारियों में महत्वपूर्ण अंतर डाला है।

दमा, उच्च रक्तचाप, मधुमेह के रोगियों को कई तपों द्वारा योग से बहुत लाभ होते दिखाया गया है।

योग का अभ्यास करने के लिए सूर्योदय और सूर्यास्त सबसे अच्छा समय है। गुरु से योग सीखना और अभ्यास करना महत्वपूर्ण है। योग में प्राणायाम, जंतन, कपालभाति, भ्रामरी का महत्वपूर्ण स्थान है।

निष्कर्ष

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस प्रत्येक २१ जून को मनाया जाता है। यह हमारे माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा पेश किया गया था। इसका उद्देश्य मानसिक स्वास्थ्य कल्याण, मन, शरीर और आत्मा का शारीरिक स्वास्थ्य कल्याण प्रदान करना है। यह हमारे शरीर का कायाकल्प भी करता है और हमें शांत रखता है। इस दिन माता-पिता के साथ स्कूल में कई गतिविधियां होती हैं।

रोजाना २० से ३० मिनट योग करने से आप शारीरिक और मानसिक समस्याओं से निजात पा सकते हैं और खुश रह सकते हैं। किसी भी उम्र के लोग योग और योगाभ्यास कर सकते हैं।

आज आपने क्या पढ़ा

तो दोस्तों, उपरोक्त लेख में हमने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध हिंदी, essay on international yoga day in Hindi की जानकारी देखी। मुझे लगता है, मैंने आपको उपरोक्त लेख में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध हिंदी के बारे में सारी जानकारी दी है।

आपको अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध हिंदी यह लेख कैसा लगा कमेंट बॉक्स में हमें भी बताएं, ताकि हम अपने लेख में अगर कुछ गलती होती है तो उसको जल्द से जल्द ठीक करने का प्रयास कर सकें।

जाते जाते दोस्तों अगर आपको इस लेख से अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर निबंध हिंदी, essay on international yoga day in Hindi इस विषय पर पूरी जानकारी मिली है और आपको यह लेख पसंद आया है तो आप इसे फेसबुक, ट्विटर और व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें।

Leave a Comment

error: Content is protected !!