पर्यावरण दिवस पर निबंध, Essay On Environment Day in Hindi

Essay on environment day in Hindi, पर्यावरण दिवस पर निबंध हिंदी: नमस्कार दोस्तों, आज हम आपके लिए लेके आये है पर्यावरण दिवस पर निबंध हिंदी लेख। यह पर्यावरण दिवस पर निबंध हिंदी, essay on environment day in Hindi लेख में आपको इस विषय की पूरी जानकारी देने का मेरा प्रयास रहेगा।

हमारा एकमात्र उद्देश्य हमारे हिंदी भाई बहनो को एक ही लेख में सारी जानकारी प्रदान करना है, ताकि आपका सारा समय बर्बाद न हो। तो आइए देखते हैं पर्यावरण दिवस पर निबंध हिंदी, essay on environment day in Hindi लेख।

पर्यावरण दिवस पर निबंध, Essay On Environment Day in Hindi

पर्यावरण मानवता के लिए सबसे अनमोल उपहार है। हमें पर्यावरण के महत्व पर ध्यान देना चाहिए। पर्यावरण ने मनुष्य को जो कुछ दिया है, उसके प्रति सम्मान और आभार प्रकट करने और उसकी रक्षा करने की प्रतिबद्धता जताने के लिए दुनिया भर में विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है।

परिचय

हर साल ५ जून को दुनिया के १४३ देशों में विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। यह संयुक्त राष्ट्र द्वारा पर्यावरण में मानवीय हस्तक्षेप को कम करने के लिए स्थापित किया गया था। १९७४ से, विश्व पर्यावरण दिवस प्रतिवर्ष एक विशिष्ट पर्यावरण विषय के साथ मनाया जाता है।

पर्यावरण का महत्व

हम पर्यावरण से संबंधित हैं, यह सभी के जीवन के लिए बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि पर्यावरण जीवन को संभव बनाता है। पर्यावरण में मनुष्य, पशु, प्राकृतिक पौधे, पेड़-पौधे, मौसम, मौसम सभी शामिल हैं।

पर्यावरण न केवल जलवायु के संतुलन को बनाए रखने का कार्य करता है बल्कि जीवन की सभी आवश्यकताओं को भी प्रदान करता है। आज विज्ञान ने तकनीक को बढ़ावा दिया है और दुनिया बहुत उन्नत हो गई है, लेकिन दूसरी ओर वे पर्यावरण के बढ़ते प्रदूषण के लिए भी जिम्मेदार हैं।

आधुनिकीकरण, औद्योगीकरण और प्रौद्योगिकी के बढ़ते उपयोग ने पर्यावरण को नकारात्मक रूप से प्रभावित किया है। मनुष्य अपने निजी स्वार्थों के लिए पेड़ों को काटकर प्राकृतिक संसाधनों से खिलवाड़ कर रहा है और पर्यावरण को भारी नुकसान पहुंचा रहा है।

पर्यावरण, पानी आदि को प्रभावित करने वाले कुछ मानव निर्मित कारकों के कारण पृथ्वी का तापमान बढ़ रहा है और ग्लोबल वार्मिंग की समस्या पैदा हो रही है, जो मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत खतरनाक है। इसलिए हम सभी को पर्यावरण के महत्व को समझना चाहिए और पर्यावरण को बचाने में सहयोग करना चाहिए।

विश्व पर्यावरण दिवस का इतिहास

१९६८ में, स्वीडन ने संयुक्त राष्ट्र की आर्थिक और सामाजिक परिषद को प्रस्ताव दिया कि पर्यावरण में मानवीय हस्तक्षेप को संबोधित करने के लिए राष्ट्रों का एक विश्व सम्मेलन आयोजित किया जाए।

अगले वर्ष, १९६८ में, संयुक्त राष्ट्र महासभा ने १९७२ में प्रस्तावित सम्मेलन आयोजित करने पर सहमति जताते हुए एक प्रस्ताव पारित किया। एक सम्मेलन आयोजित किया गया जिसमें पर्यावरण के मुद्दों पर चर्चा की गई और भाग लेने वाले देशों और संगठनों को सुझाव दिए गए। इस प्रकार, विश्व पर्यावरण दिवस १९७४ से हर साल मनाया जाता है।

पर्यावरण दिवस मनाने के उद्देश्य

विश्व पर्यावरण दिवस का मुख्य उद्देश्य लोगों तक पहुंचना और पर्यावरण संरक्षण के विभिन्न मुद्दों पर जागरूकता पैदा करना है।

मूल विचार एक ऐसा वातावरण बनाना है जिसमें लोग पर्यावरण के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझें और सरकारें पर्यावरण की रक्षा के लिए आवश्यक अनुकूलन करें।

पर्यावरण यहाँ पर्यावरण के सभी संभावित तत्वों को संदर्भित करता है: वायु, जल, समुद्री जीवन, वन्य जीवन, पौधे और सभी। दुनिया भर की सरकारें, गैर-सरकारी संगठन और मशहूर हस्तियां पर्यावरण के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए किसी न किसी रूप में अभियान चलाती हैं।

हम विश्व पर्यावरण दिवस क्यों मनाते हैं

पर्यावरण के बारे में जागरूकता पैदा करने और मानवीय गतिविधियों से होने वाले नुकसान को रोकने के लिए ५ जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। यह दिन हमें अपने पर्यावरण की रक्षा के लिए विभिन्न कार्यों और कदम उठाने की याद दिलाता है।

हम में से हर कोई जानता है कि ग्लोबल वार्मिंग हमारे पर्यावरण को प्रभावित करने वाला मुख्य कारण है। इसलिए पर्यावरण को बचाना और उसकी रक्षा करना हमारा कर्तव्य है। इसके अलावा, हमें पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले सभी हमलों को रोकना चाहिए।

विश्व पर्यावरण दिवस से संबंधित कार्यक्रम

विश्व पर्यावरण दिवस भारत में विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से मनाया जाता है, खासकर स्कूलों और कॉलेजों में। छात्रों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए शिक्षक निबंध लेखन, विषय पर चर्चा, प्रश्नोत्तरी, सेमिनार और कार्यशाला जैसे कुछ प्रभावी कार्यक्रमों की योजना बनाते हैं।

स्कूल, विश्वविद्यालय घूम-घूम कर लोगों को पर्यावरण के महत्व के बारे में बताते हैं। इस विशेष अवसर पर कार्यशालाओं, चित्रकला प्रतियोगिताओं, फिल्म स्क्रीनिंग, प्रशंसा लेखन, नारा लेखन आदि जैसे कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। छात्रों को हमारे पर्यावरण की रक्षा के लिए सकारात्मक कदम उठाने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

विश्व पर्यावरण दिवस पर हमें क्या करना चाहिए

विश्व पर्यावरण दिवस पर हम सभी को पर्यावरण संरक्षण के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए विभिन्न अभियानों में भाग लेने की आवश्यकता है। स्कूल और कार्यालय के कर्मचारियों और छात्रों को पेड़ लगाने या स्थानीय परिसर या सुविधाओं को साफ करने के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। इन छोटे-छोटे प्रयासों का पर्यावरण पर बड़ा प्रभाव पड़ता है।

पर्यावरण की स्थिति में सुधार के लिए सरकारी एजेंसियों और नेताओं को एक साथ आना चाहिए

निष्कर्ष

विश्व पर्यावरण दिवस के पीछे की अवधारणा प्रकृति के प्रदूषण से मुक्त एक सुंदर दुनिया का निर्माण करना है। प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाना, अधिक पेड़ लगाना, जल संरक्षण, पुनर्चक्रण, वन्य जीवन और जानवरों को बचाना पर्यावरण को बेहतर बनाने के कदम हैं। हमें प्राकृतिक संसाधनों की रक्षा करनी चाहिए और उनका कुशलतापूर्वक और सावधानी से उपयोग करना चाहिए। हम एक सुंदर और स्वस्थ वातावरण बना सकते हैं।

आज आपने क्या पढ़ा

तो दोस्तों, उपरोक्त लेख में हमने पर्यावरण दिवस पर निबंध हिंदी, essay on environment day in Hindi की जानकारी देखी। मुझे लगता है, मैंने आपको उपरोक्त लेख में पर्यावरण दिवस पर निबंध हिंदी के बारे में सारी जानकारी दी है।

आपको पर्यावरण दिवस पर निबंध हिंदी यह लेख कैसा लगा कमेंट बॉक्स में हमें भी बताएं, ताकि हम अपने लेख में अगर कुछ गलती होती है तो उसको जल्द से जल्द ठीक करने का प्रयास कर सकें।

जाते जाते दोस्तों अगर आपको इस लेख से पर्यावरण दिवस पर निबंध हिंदी, essay on environment day in Hindi इस विषय पर पूरी जानकारी मिली है और आपको यह लेख पसंद आया है तो आप इसे फेसबुक, ट्विटर और व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें।

Leave a Comment

error: Content is protected !!