भारत की विरासत पर निबंध, Essay On Indian Heritage in Hindi

Essay on Indian heritage in Hindi, भारत की विरासत पर निबंध हिंदी: नमस्कार दोस्तों, आज हम आपके लिए लेके आये है भारत की विरासत पर निबंध हिंदी लेख। यह भारत की विरासत पर निबंध हिंदी, essay on Indian heritage in Hindi लेख में आपको इस विषय की पूरी जानकारी देने का मेरा प्रयास रहेगा।

हमारा एकमात्र उद्देश्य हमारे हिंदी भाई बहनो को एक ही लेख में सारी जानकारी प्रदान करना है, ताकि आपका सारा समय बर्बाद न हो। तो आइए देखते हैं भारत की विरासत पर निबंध हिंदी, essay on Indian heritage in Hindi लेख।

भारत की विरासत पर निबंध, Essay On Indian Heritage in Hindi

भारत अनेकता में एकता के लिए जाना जाता है। भारत में लाखों लोग विभिन्न धर्मों का पालन करते हैं और इनमें से प्रत्येक धर्म का अपना ऐतिहासिक और लोक विरासत स्थल है। हजारों साल पहले बने ये ऐतिहासिक स्थल आज भी मौजूद हैं।

परिचय

विरासत वह है जो हम अपने अतीत या अपने पूर्वजों से प्राप्त करते हैं। भारत विविध संस्कृतियों और परंपराओं का देश है। हमारे देश में कई जातियों, धर्मों और संप्रदायों के लोग रहते हैं। हमारे देश में प्रत्येक जातीय समूह का अपना इतिहास और अपनी विशिष्ट परंपराओं और संस्कृति का एक हिस्सा है। इन सभी ने भारत के इतिहास और संस्कृति को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। प्रकृति ने भारत को एक विशिष्ट भौगोलिक इकाई बनाया है।

भारतीय विरासत

भारत की विरासत और संस्कृति विशाल है क्योंकि हमारे देश में बड़ी संख्या में धार्मिक समूह हैं। हर समाज के अपने रीति-रिवाज और परंपराएं होती हैं जो वह अपनी युवा पीढ़ी को देता है।

हालाँकि, हमारे कुछ रीति-रिवाज और परंपराएँ पूरे भारत में समान हैं, हमारी परंपराएँ हमें अच्छी आदतें सिखाती हैं और हमें अच्छा इंसान बनाती हैं। हमारी सांस्कृतिक विरासत हमारी पुरानी पीढ़ी का एक सुंदर उपहार है जो हमें बेहतर इंसान बनने और एक सामंजस्यपूर्ण समाज बनाने में मदद करेगी।

भारतीय साहित्य

भारतीय साहित्य उतना ही समृद्ध है जितना कि संस्कृति। प्राचीन काल से ही हमारे पास अनेक विषयों पर विभिन्न पुस्तकें लिखी गई हैं। भारतीय साहित्य के अन्य रूपों में वैदिक साहित्य, महाकाव्य संस्कृत साहित्य, शास्त्रीय संस्कृत साहित्य और पाली साहित्य शामिल हैं। अधिक पाठकों तक पहुँचने और अधिक लोगों को लाभान्वित करने के लिए हमारी कई पुस्तकों का अन्य भाषाओं में अनुवाद किया जा रहा है। इस अविश्वसनीय रूप से समृद्ध सामग्री को हर कीमत पर संरक्षित किया जाना चाहिए।

भौगोलिक संरचना

भारत के विभिन्न भागों में अनेक सुंदर भूवैज्ञानिक संरचनाएँ पाई जाती हैं। कुछ बेहतरीन भूवैज्ञानिक संरचनाएं जो हमारे देश का हिस्सा हैं, उनमें लूनर क्रेटर लेक, सियाचिन ग्लेशियर, जम्मू और कश्मीर, पिलर रॉक्स, कोडाई कैनाल, बैरन आइलैंड, अंडमान, मैग्नेटिक हिल, लेह, कॉलमनार बेसाल्टिक लावा, उडुपी और टॉड रॉक शामिल हैं। ये सभी संरचनाएँ प्रकृति के सच्चे चमत्कार हैं। हर साल दुनिया भर से कई पर्यटक विशेष रूप से भगवान की इस अद्भुत रचना की एक झलक पाने के लिए इन जगहों पर आते हैं।

ऐतिहासिक धरोहर वाले स्थान

कुछ स्मारक और विरासत स्थल जैसे कर्नाटक में हम्पी या महाराष्ट्र में अजंता एलोरा गुफाएं यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल हैं। वे भारत में पर्यटन उद्योग के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।

अजंता एलोरा गुफाओं जैसे विरासत स्थलों के वास्तुशिल्प और इंजीनियरिंग चमत्कारों पर एक नज़र डालने से कला, इंजीनियरिंग, निर्माण प्रबंधन, धैर्य और दृढ़ता का ज्ञान प्रकट होता है। उस दौर के कई स्मारकों को बनने में १०० साल से भी ज्यादा का वक्त लगा था। आज इतने बड़े तकनीकी और इंजीनियरिंग कौशल के साथ ऐसी गुफाएं और स्मारक बनाना मुश्किल है।

ताजमहल पूरी दुनिया में भारत का चेहरा बन गया है। आज भी ताजमहल लोगों को प्रेम और बलिदान के महत्व के बारे में एक महत्वपूर्ण संदेश देता है। दुनिया के सात अजूबों में से एक होने के नाते, ताजमहल की वास्तुकला शब्दों से परे है।

कर्नाटक के शासक टीपू सुल्तान की तलवारों और गहनों से लेकर राजस्थान के राजपूतों और मैसूर क्षेत्र के महाराजाओं द्वारा छोड़े गए प्राचीन वाहनों के संग्रह तक, भारत के पास संपत्ति का खजाना है।

भारत में यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल

सांस्कृतिक स्थल

  • आगरा का किला (१९८३)
  • अजंता की गुफाएं (१९८३)
  • एलोरा की गुफाएं (१९८३)
  • ताजमहल (१९८३)
  • सूर्य मंदिर, कोणार्क (१९८४)
  • गोवा के चर्च और मठ (१९८६)
  • हम्पी में स्मारकों का समूह (१९८६)
  • खजुराहो मंदिर (१९८६)
  • सांची में बौद्ध स्मारक (१९८९)
  • हुमायुं का मकबरा, दिल्ली (१९९३)
  • कुतुब मीनार और उसके स्मारक, दिल्ली (१९९३)
  • छत्रपति शिवाजी टर्मिनल (२००४)
  • नालंदा, बिहार में नालंदा महाविहार पुरातत्व स्थल (२०१६)
  • जयपुर शहर, राजस्थान (२०१९)

प्राकृतिक स्थान

  • काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान (१९८५)
  • केवलदेव राष्ट्रीय उद्यान (१९८५)
  • सुंदरबन राष्ट्रीय उद्यान (१९८७)
  • नंदा देवी और फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान (२००५)
  • पश्चिमी घाट (२०१२)
  • ग्रेटर हिमालयन नेशनल पार्क संरक्षण क्षेत्र (२०१४)
  • खंगचंदजंगा राष्ट्रीय उद्यान (२०१६)

हमारे देश की विरासत को संरक्षित करने की जरूरत

बड़ों को युवा पीढ़ी में भारतीय परंपरा के प्रति प्रेम जगाने की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। हम अपनी गौरवशाली विरासत को नए सिरे से बनाकर ही सुरक्षित रख सकते हैं। बड़ों का कर्तव्य है कि वे युवा पीढ़ी में भारतीय परंपरा के प्रति रुचि पैदा करें।

हम अपनी गौरवशाली विरासत को नए सिरे से बनाकर ही सुरक्षित रख सकते हैं। स्कूलों को छात्रों को भारतीय विरासत के बारे में बताना चाहिए और यह बताना चाहिए कि यह सदियों से कैसे जीवित है। उन्हें अपनी सुरक्षा के महत्व को भी जानना चाहिए। यह उनमें गर्व की भावना पैदा करने में मदद करेगा और उन्हें परंपरा को आगे बढ़ाने और इसे नई पीढ़ी तक पहुंचाने के लिए प्रोत्साहित करेगा। इसके लिए शिक्षकों और अभिभावकों को मिलकर काम करना चाहिए।

निष्कर्ष

भारत एक प्राचीन देश है। आपके पास एक सुंदर विरासत है। हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए इसे देखने और अनुभव करने के लिए इसे संरक्षित करना हमारी जिम्मेदारी है।

आज आपने क्या पढ़ा

तो दोस्तों, उपरोक्त लेख में हमने भारत की विरासत पर निबंध हिंदी, essay on Indian heritage in Hindi की जानकारी देखी। मुझे लगता है, मैंने आपको उपरोक्त लेख में भारत की विरासत पर निबंध हिंदी के बारे में सारी जानकारी दी है।

आपको भारत की विरासत पर निबंध हिंदी यह लेख कैसा लगा कमेंट बॉक्स में हमें भी बताएं, ताकि हम अपने लेख में अगर कुछ गलती होती है तो उसको जल्द से जल्द ठीक करने का प्रयास कर सकें।

जाते जाते दोस्तों अगर आपको इस लेख से भारत की विरासत पर निबंध हिंदी, essay on Indian heritage in Hindi इस विषय पर पूरी जानकारी मिली है और आपको यह लेख पसंद आया है तो आप इसे फेसबुक, ट्विटर और व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें।

Leave a Comment

error: Content is protected !!